क्या यह खेलों की दुकानदारी नहीं है ?

जब अस्पताल चलाने के लिए उसे “इंडियन मेडिकल काउन्सिल” से मान्यता लेना आवश्यक है, विद्यालय चलाने के लिए मंत्रालय द्वारा मान्यता प्राप्त शिक्षा बोर्ड से मान्यता लेना आवश्यक है, महाविद्यालय भी विश्वविद्यालय व उच्च शिक्षा विभाग से अनुमति लेने के बाद ही संचालित हो सकते है, सड़क पर वाहन चलाने के लिए भी लाइसेंस शासकीय परिवहन विभाग से ही लेना पड़ता है और सड़क पर चलाने के लिए वाहन को भी पंजीकरण करवाना आवश्यक है।

लेकिन कोई भी नागरिक केवल एक समिति किसी भी राज्य में पंजीकृत करवा कर उसके बाद किसी भी खेल के प्रतियोगिता का आयोजन कर सकता है चाहे वह राज्य हो अथवा राष्ट्रिय स्तर पर हो। उसे खेल विभाग, मंत्रालय अथवा मान्यता प्राप्त खेल संघ से किसी प्रकार के अनुमति की आवश्यकता नहीं है ? क्या यह खेलों की दुकानदारी नहीं है ?