स्थानीय युवा और बालक बालिकाओं ने की बढ़-चढ़कर की हिस्सेदारी ।चम्बल घाटी की ऊर्जा को सही दिशा देने के लिए ,क्रीड़ा भारती ने कराई चंबल किनारे रेत पर रस्सा कसी प्रतियोगिता ,प्रतियोगिता में स्थानीय युबाओ तथा बालक बालिकाओ ने पूरी शक्ति से इसमें भाग लिया रस्साकशी करते वक्त वहआनंद भी महसूस कर रहे थे,रस्साकसी में क्रमांक 1 के NSS की ...